मन को शांत करने के लिए ध्यान (meditation) सबसे महत्वपूर्ण अभ्यास है।  शांत मन से स्वस्थ, सुखी और सफल जीवन व्यतीत किया जा सकता है।  यह बीमारियों को ठीक कर सकता है और उपचार प्रक्रियाओं को तेज कर सकता है। 

meditation- प्राण -धारणा क्या है?

हम नीचे दी गई सरल तकनीक का वर्णन करते हैं जिसे प्राण-धारणा कहा जाता है।  प्राण संस्कृत में उस हवा के लिए है जिसमें हम सांस लेते हैं।  यह जीवन का सबसे बुनियादी कार्य है जो जन्म से शुरू होता है और मृत्यु तक चलता रहता है।  लेकिन आम तौर पर हमें सांस के बारे में तब तक पता नहीं चलता जब तक हमारा ध्यान ( meditation) उसके करीब नहीं जाता।  धारणा का अर्थ है इसकी जागरूकता।  प्राण-धारणा का अर्थ है जब हम सांस लेते हैं तो मन को हवा के प्रवाह में लगाना।  विधि नीचे वर्णित है:

ध्यान(meditation) और योग सुखी और स्वस्थ जीवन का आधार:कैसे करें ध्यान ,सोच बदलो।
लार्ड बुद्ध

ध्यान (meditation) की मुद्रा कैसी होनी चाहिये।

ये भी पढ़े —

WHAT IS WORRY चिंता क्या है: इससे कैसे निपटें;सोच बदलो

 ध्यान meditation के लिए उपयुक्त मुद्रा में बैठें।  सामान्य आसन सिद्धासन, पद्मासन और स्वास्तिकासन हैं।  लेकिन अगर आप ऐसा नहीं कर सकते तो बस क्रॉस लेग करके बैठ जाएं।  आपकी पीठ सीधी और आंखें बंद होनी चाहिए।  आपके घुटने जमीन पर अच्छे से टिके होने चाहिए।  अपने कंधों को पीछे मत करो।  जांघों, पैरों, घुटनों, रीढ़ या गर्दन पर कोई खिंचाव या दबाव डाले बिना पूरे शरीर को आराम दिया जाना चाहिए और पूरा फ्रेम स्थिर होना चाहिए। 

पेट की दीवार के साथ तनाव पर कोई खिंचाव नहीं होना चाहिए।  प्रत्येक श्वास के साथ पेट की दीवार को बहुत आसानी से और सहजता से आगे-पीछे होने दें।  चेहरे की मांसपेशियों को आराम देना चाहिए और दोनों जबड़ों के बीच एक छोटे से अंतराल के साथ मुंह बंद करना चाहिए ताकि ऊपरी और निचले दांत एक दूसरे पर दबाव न डालें।  आपकी जीभ को ऊपरी सामने के दांतों के पिछले हिस्से को छूते हुए तालु को छूना चाहिए।  सुनिश्चित करें कि होंठ, जीभ या निचले जबड़े हिलते नहीं हैं।  आपकी आंखें और पलकें स्थिर होनी चाहिए और माथे की मांसपेशियां शिथिल होनी चाहिए।

 आपकी पूरी मुद्रा आरामदायक, स्थिर और आराम से होनी चाहिए।  आपको शरीर के किसी भी हिस्से पर खिंचाव महसूस नहीं होना चाहिए।  अब सांस लेने की जागरूकता विकसित करना शुरू करें।  हवा का प्रवाह एकसमान, धीमा और चिकना होना चाहिए।  कोई प्रयास न करें या कोई नियंत्रण न करें।  सांस कभी न रोकें।  कोई भी शब्द न कहें और न ही कोई छवि देखें।  यह आपके दिमाग को शांत करेगा और आपको हासिल करने में मदद करेगा।

क्या है जीवन का सबसे बड़ा दिन?

जीवन का सबसे बड़ा दिन वह होता है जब आप अपने अंदर कुछ भी बाहर फेंकने के लिए नहीं पाते हैं; सब कुछ पहले ही बाहर फेंक दिया गया है, और केवल शुद्ध खालीपन है। उस खालीपन में तुम खुद को पाओगे।

ध्यान (meditation) का सीधा सा अर्थ है मन की सभी सामग्री से खाली हो जाना:

स्मृति, कल्पना, विचार, इच्छाएं, अपेक्षाएं, अनुमान, मनोदशा। व्यक्ति को इन सभी सामग्रियों से स्वयं को खाली करते जाना है। जीवन का सबसे बड़ा दिन वह होता है जब आप अपने अंदर कुछ भी बाहर फेंकने के लिए नहीं पाते हैं; सब कुछ पहले ही फेंक दिया गया है, और केवल शुद्ध खालीपन है। उस खालीपन में तुम स्वयं को पाओगे; उस खालीपन में तुम अपनी शुद्ध चेतना पाते हो।

जहां तक ​​मन का संबंध है वह खालीपन खाली है। अन्यथा यह अतिप्रवाहित है, अस्तित्व से भरा हुआ है — मन से खाली लेकिन चेतना से भरा है। तो खाली शब्द से मत डरो; यह नकारात्मक नहीं है। यह केवल अनावश्यक सामान को नकारता है, जिसे आप पुरानी आदत से ले जा रहे हैं, जो मदद नहीं करता है, केवल बाधा डालता है, जो सिर्फ एक वजन है, एक पहाड़ी वजन है।

एक बार जब यह भार हट जाता है तो आप सभी सीमाओं से मुक्त हो जाते हैं, आप आकाश के समान अनंत हो जाते हैं। यह ईश्वर या बुद्धत्व का अनुभव है या जो भी शब्द पसंद है। इसे धम्म कहें, इसे ताओ कहें, इसे सत्य कहें, इसे निर्वाण कहें- इन सबका मतलब एक ही है।

इस लेख पर अपनी प्रतिक्रिया दें।

Rating: 1 out of 5.

आपको ये लेख कैसा लगा